Rebooting the System.

 

Its been two months at AAVISHKAAR and I can definitely say that time travels at the speed of light. I was not even able to realize that its two months of the roller coaster ride which runs on a new track every day with an utmost speed it can.

Last 6 years of my life have been in a concrete jungle.. oops i mean in a city and then this sudden change of climate, atmosphere and no robot culture where life is not all about work rather it is lived and enjoyed with so many energetic people around.

But those all jammed parts of life needed a lubrication, needs to be refurbished and then restarted, and I found a lot of difficulty to make it work which initially was helped by the natural substance of this place and then I started working on my schedule which used to be sleep late at night and get up mostly in the afternoon, but here at AAVISHKAAR my day starts at 6 am and ends at 5:30 pm.

Sharp shifting to this change was very sudden for me but this shift in the schedule helped me a lot to be more productive when I started beginning my day a little early say 6 am, the beautiful sunrise here fills me with a very high amount of energy and which directly helped me to be productive throughout the day. Although I was not efficient enough in the work which was handed over to me but the work culture here and all the mates kept helping me in completing my work. I belong to that society of the world where we work as a robots, I mean ‘Engineers’ 🙂 where we just see that there is a problem and we need to fix it and I was brought up with the same mindset of given a target and hit the same.

Here at AAVISHKAAR we have to mostly explore and learn with a lot of diversity in people. I work with people with Maths, Botany, Education and Economics background and all those taught me that life is not all about revolving around targets, it is much more than that.

Sometimes, we can learn a lot from other ways also and the best learning always happen when we do Self-learning and Self-exploration which helps us to get a lot more broader perspective and to think and work in many different ways and this was also taught to me by the Ganit charcha’s that I attended that its ok and perfect to have different views and solution. Initially, when I started teaching in classes I did not believe in the detailed planning of the class, i just had a overall rough plan with a few lines written in my lesson plan and used to go to the classes directly and take the classes which resulted in a not so good and exciting class neither for the kids nor me, I used to think that I have solved so many engineering problems and it will be very easy to teach kids but that misconception of mine was broken on the second class itself which I took, I got blanked what to teach next, I had enough time left with me in that class and then Babli (my co- fellow) took charge and helped to take the class forward, that was the day that I realized that teaching cannot be taken as trivial. It need rigorous planning and visualizing stuffs, this was the first time I came out of my mind set and started thinking about other things which I need to change in me and within past few days our program manager conducted a Fellow meet in which her agenda was to discuss on the Stereotype mind set we have and in day to day life we are so stereotype even in decision making, that also made me realized that how I unconsciously made decisions by being so stereotype and I analysed myself and the people at AAVISHKAAR helped me a lot in some way or the other.

Either by direct means like saying me directly that you should reflect on your classes else by letting me do my stuff and learn from the experience. These are the changes which I am learning in this Aavishkaar fellowship journey and I’m really very lucky that at a very early stage in my life I am able to experience so much of learning in a space of a vast cultural diversity also from the various life taught lessons and a lot of things which we ignore unconsciously in our lives which play a vital role in our life when we deal with people across the globe. I hope that this roller coaster ride has some new and exciting twist and turns ahead in my fellowship journey, I hope that I’ll take a lot from AAVISHKAAR in the forth coming days…..

Sanjay (Aavishkaar Fellow).

INTRODUCTION TO EXPLORATION.

 

Nov 2, 2019, Time 0600 hrs:  As I boarded the bus from Chandigarh the exploration began. The scenic view on the way to Palampur was very fascinating, butterflies started tickling inside my stomach and I was unable to wait for the clock to strike 1400 hrs, I kept on checking google maps how much distance is left, then finally at 1430 hrs I reached Palampur and the next very movement I called Danish that I have reached.

Danish & Shubham came to pick me up we shared greetings and then we went to pick other co-fellows of Aavishkaar – Babli, Shreya, Aanchal, Divyanshu & Shamli. Starting from Palampur on the way to Aavishkaar campus I kept quiet since the excitement was at its peak to enter the campus which I explored in Google maps. I met the Aavishkaar team Rita, Trilok and few whom I already met on the way to Kandwari. 1600 hrs a small introductory meet was organized for me where we revealed some funny incidents of our life, some more chit chats & end of the day. As the sun started setting down the snow-covered mountains of Dhauladhar range of Himalayas caught my attention, it was glooming reddish in color from the light of the setting sun, this was the first time I was experiencing a clear sky and gazing stars on a cold chilly night and waiting for the sun to rise for next day to continue my exploration.

 

Aavishkaar’s Exploration:

 

Next morning started with the warmth & welcoming attitude of people in a very cold place. Especially Sarit sir and Sandhya ma’am “the techies” but so down to earth that no one can say they lived in the states for a couple of years. “AAVISHKAAR: CENTRE OF SCIENCE, MATHS, ARTS & TECHNOLOGY” as per the name Aavishkaar is the storehouse of ideas and concepts in a mud house named “Library” where we work, the place where ideas emerge and sessions are conducted and every time every individual unlearn and then learn and we (fellows) are here to unlearn- learn – teach some excited and enthusiastic kids. Everything here in Aavishkaar is that which we’ll feel like we know but then later on when we have to teach in a layman language we get stuck and that’s why we first unlearn – learn. 

Sarit sir’s theories and Sandhya ma’am’s Ganit Charchas are always fascinating where we learn everything in a way that if we have to teach our “Dadi” then even she gets a good understanding of the concept. Past one and a half months at Aavishkaar was like a very new roller coaster ride which was full of new learning’s, bonding, observation of class of co-fellows and the scenic view of the place, where every morning fills an individual with positivity and to create a change and I enjoy the sunrise that fills me up with a lot of energy for the whole day and the chilly nights over here. 

On the 7th day of my fellowship, there was a Workshop scheduled “Hamaari Shikshaa” from which I learnt a lot of new things and with different views of every participant and how we can create a change in Education system of India. In the workshop, we learnt a lot about how the Indian Education system is governed who are the stakeholders and how the policies are designed which included a lot of different types of tasks in which we all the Aavishkaar team collaborated and worked with the participants and bonded with them. 

All this while in my few initial days at Aavishkaar I made 2 really good friends my roommates “ShubhamNaam hai Humara’ and “DivyanshuPapa se panga nahi’ with these two and the co-fellows all the other members of Aavishkaar, I never missed my home, I always felt like it is just my Dad and Mom had gone out on a vacation.

And then a couple of weeks after “Hamaari Shikshaa” the moment came when I have to start a new class at Government Primary School – Kandbari and I was very nervous to teach small kids of 3rd, 4th & 5th grade but then Sandhya ma’am and especially co-fellow Babli the expert in teaching young “kids” supported and backed me every time, I just lost control in my first class. I remember an incident where I was teaching number sense and then I just got blanked while teaching reverse counting and suddenly Babli took the charge of the class and helped me to maintain the flow of the class and everyday she helped me in planning for my class. The kids to whom I teach are also very excited and some of them are so fast learners that to keep them excited I have to always think of something new and take that to my class. 

While taking my class, whenever I get a chance of going to DGL nunnery with Sarit sir and Shreya I accompany them and  kids of nunnery are so disciplined and so energetic, the way they think of whatever Shreya teaches them is always fascinating every time I go there I learn something from the kids the patterns they see in Ganit Charcha of dots which we never thought of and the most important thing that I learnt from all the classes that I have observed yet of my co-fellows and myself is that we adults always complicate things and get stuck but on the other hand kids just do everything in a simplified manner. 

Here in Aavishkaar, we have an Engineer not by degree but by knowledge, experienced and talented, whose problem-solving methodology is as simple as kids. He is Roshan Lal Bhaiji the man with high caliber but down to earth. He invited all the members of Aavishkaar to his place for dinner and his family is also same as like him, we all experienced hospitality with simplicity at its best. 

I being an engineer, always enjoy his company, he shares a lot of things to me, I share some experiences with him which I had in my college and I take up a lot of practical doubts to him, he solves them so quickly and I hope an engineer is going to learn a lot at Aavishkaar under the guidance of so many talented, young and energetic people……. Let’s see what I’m going to learn next …………….

 

Sanjay – Aavishkaar Fellow.

My first month of Aavishkaar Fellowship!

I come from very small town from Madhya Pradesh and I am very ambitious, I want to achieve everything that is for my betterment, I think sky is limit for my dreams and I want to make a difference in people’s life. So my determination to never stop, not to settle for less and experience things brought me on a beautiful journey to discover life.

A place where you think, create and love the work you do, not an organization but a world full of Innovation. Here one can feel peace and love in the air. A place in a small village near Palampur where every thing has a story to tell and calmness in every corner and a small family of Aavishkaar who are kind and loving. A place in the lap of Dhauladhar range of Himalayas, where you can feel your inner self healing.

On my very first day i saw people sitting in Ojas (the gazebo in Aavishkaar), just like the name one can feel energy, brilliance, positivity in its atmosphere and in the people sitting there. They were talking and making sketches of each other, introducing themselves as they were from different cities and one can clearly see unity in diversity in that. It was the first day of Hamaari Kakshaa workshop and in Sandhya’s session we found how mathematics can be games and fun, making it more experiential. By experiencing these new methodologies I found the kid in me, which got lost years ago. People were questioning without hesitation, expressing their fear of subject and concept of fraction ,waves, atom, light, sound etc. Everyone had a story to tell and a lot to discuss. Playing, thinking and designing together, teaches you the power of group. The energy of participants, their zeal to learn, to question and to not fear while expressing their fears made this workshop amazing.

After the completion of Hamaari Kakshaa new people came for second workshop (Aadhaar Ganit), again same fun with new games, new learning and new people with few more stories and a lot to discuss. Connecting every bit of learning to real life examples. I realized even after studying all these years, there is a lot to learn about addition, subtraction, division , multiplication and many more ways to look at it. A strong desire to unlearn and learn better again popped up in mind. Aadhaar Ganit workshop ended with a Ganit melaa, many students from nearby schools came and played games along with participants of the workshop. Post completion of the workshop we started with our regular work. Fellows went back to their school work and from here my actual journey started because I am also a Aavishkaar fellow and now new life begins…

One day I went to one government school, this was the first time i realized how good it is to play with kids, to get a smile on their face, be their friends, allowing them to study in their own way and not forcing them. This is the first time i went to any government school and had meal there with students and it was really good. Such appreciation, respect and love from teachers, Principal, i actually felt connection with kids when they started asking didi ab dobara kab aaoge?

Nowadays i am learning how to teach by observing other Aavishkaar fellows classes, how to present topics in class, how to handle kids, manage them, what to build in them and that is a great task because children are future and right words, right choices can change the world and that is in our hand so be careful because small kids are just like a wet clay who need to be mold by soft hand to make hard and beautiful pot. Such a big responsibility in teachers hand who shape the worlds future but sadly not many people wants to be teacher , no one remember them or admire their hard work. Everyone know successful person but no one knows a teacher behind them.

Proud to be a teacher because you are making a difference every day.

To be teacher takes courage, determination and lot of patience.

And it is the greatest act of optimism and it gives peace.

And how can I not express myself on a weekend trip while being here in Himachal, I went out on a small trip to a beautiful station of Paprola and from there a mesmerizing journey to Kangra by toy train train. It was a good trip to begin with in first month.

New stories and further journey awaits….

Aanchal Nikhra (Aavishkaar Fellow)

मेहनत 

 

 ज़िंदगी में कोई भी काम ऐसा नहीं है जिसको करने में हमें मेहनत ना करनी पड़े या दूसरे शब्दों में कहा जाए तो बिना मेहनत के कोई भी कार्य संभव नहीं  है।  

 

हमें ज़िंदग़ी में जो भी कड़ी मेहनत करके मिलता है उसका आनंद ही कुछ अलग होता है और  उस आनंद को आज मैंने महसूस किया । ऐसा नहीं है कि इससे पहले या आजतक मैंने कोई मेहनत नहीं कि बस फ़र्क़ इतना था कि शायद पता ही नही था, कि वास्तव में  मेहनत शब्द का अर्थ क्या है । लेकिन अगर आज मैं इस शब्द का अर्थ बताऊँ तो मेरे लिए इसका अर्थ है “सुकून” । मेहनत करके मिली सफलता में जो सुकून है वह कहीं और नहीं । बेशक सफलता अगर देर से मिले लेकिन अगर मेहनत करते रहो  तो सफलता एक न एक दिन ज़रूर मिलेगी और यह बात हमेशा याद रखना कि :-

 

दूसरों की अपेक्षा आपको अगर सफलता देर से मिले तो निराश मत होना क्योंकि मकान बनने से ज़्यादा समय महल बनने में लगता है ।।

 

 जब भी मैं आविष्कार से किसी की भी कक्षा को देखने गई कि किस तरह से पढ़ाया जाता है तो उनकी भाषा इतनी सहज और सरल होती है और जो भी बोलते हैं बच्चे उसे जल्दी से पकड़ लेते थे तो यह देख कर मेरा बस सपना रह जाता था कि शायद मैं इस तरह से कभी भी अपनी कक्षा में नहीं लेकर जा सकती । पर इस पर मैंने बहुत मेहनत की मैं बस अपने आप में ही बोलती रहती थी कि मैं कक्षा में कैसे बोलूँ कि बच्चे मेरी बात को समझें।

 

इस सब के चलते आज की कक्षा के बाद मैंने सोचा शायद मुझ में कुछ बदलाव हुआ है और यह शायद की गई मेहनत का फल है जब बच्चे बिना कोई तरीका बताए कक्षा में बहुत अच्छे से करने लगे न तो मेरी ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा और आज मुझे कितनी ख़ुशी मिली है मैं वह बयां नही कर सकती बस मैं इतना बोल सकती हूँ कि आज मेरे चेहरे से मुस्कुराहट नहीं हट रही थी और अब मेरे द्वारा कही गई बात को बच्चे जल्दी से पकड़ लेते हैं और उसे अच्छे से करते हैं । आज मैंने एक बात सीखी है कि :-

 

अपनी ज़िंदगी में कोई भी काम करो इतनी शिददत और मेहनत से करो कि अंत में बेशक आपको उतना न मिले जितना आपने सोचा हो पर अपनी मेहनत से जितना भी आपने दिया है वह आपको इतनी सुकून देगा कि कुछ और पाने का मन नहीं करेगा । 

 

 मेरी कक्षा में एक ही लड़का है बाकी सब लड़कियाँ और पहले जब मैं  कक्षा में जाती थी तो स्कूल से आने के बाद जब भी रिफ्लेक्शन शीट को भरती थी तो उसमें लिखा जाता था कि कक्षा में एक लड़का है विशाल जिसकी  प्रतिक्रिया कुछ ज़्यादा अच्छी नहीं रहती होती है क्योंकि वह सवाल नहीं करता था तो उसके लिए मैंने उसे कई बार अकेले समझाने की कोशिश की फिर उसके बाद उसमें थोड़ा थोड़ा बदलाव आने लगा और अब देखा जाए तो कक्षा में सबसे ज़्यादा सवाल वह करता है और अब मेरी रिफ्लेक्शन शीट पर लिखा रहता है कि विशाल की प्रतिक्रिया कक्षा में सबसे अच्छी है और यही मेरी ख़ुशी का सबसे बड़ा कारण है अपनी कक्षा में बदलाव लाने के लिए मैंने बहुत मेहनत की है और उस मेहनत का फल मुझे आज अपनी कक्षा में दिखा है और यह मेरे लिए बहुत बड़ी बात है ।

 

 कभी भी हम अपने सूखे हाथ की मुट्ठी में रेत को पकड़ कर नहीं रख सकते लेकिन अगर हाथ पसीने से भरे हों तो हम रेत को भी अपनी मुट्ठी में आसानी से बंद करके रख सकते हैं।

 

उस पसीने का असली कारण है मेहनत। कोई भी काम सिर्फ सोचने से नहीं होता है उस काम को पूरा करने में  कड़ी मेहनत की ज़रूरत होती है और जिस भी काम को करने में जितनी ज़्यादा मेहनत लगे उसकी सफलता उतनी ही मज़ेदार होती है । काम चाहे छोटा हो या बड़ा बिना मेहनत के कोई भी कम पूरा नहीं हो सकता ।

 

यह मेरे लिए बहुत बड़ी सफलता है लेकिन इस सफलता के पीछे सिर्फ मेरा हाथ नहीं है आविष्कार के बाक़ी लोगों का भी हाथ है वहाँ  हर दिन किसी न किसी इन्सान की मदद से अगली कक्षा की तैयारी की जाती है, कक्षा अच्छी हो इसके लिए आविष्कार के लोग कड़ी से कड़ी मेहनत करते हैं और  बच्चों को अच्छे से समझ आए इसलिये उनको कुछ न कुछ चीजें ले जाते हैं ताकि हर एक बच्चा अपने हाथ से कर पाए और उसे अच्छे से समझ सके। कक्षा में हम जितनी मेहनत करके जाते हैं आगे से उतना ही अच्छा परिणाम मिलता है हमारे द्वारा की गई मेहनत का अच्छा फल मिलता है और मेरे लिए यही मेरी सफलता है ।

 

महेनत एक घण्टे का काम नहीं 

मेहनत ज़िंदग़ी भर का काम है ,

मेहनत सिर्फ समय का नाम नहीं 

मेहनत सफलता का नाम है ,,

 

और अंत में मैं यही कहना चाहूँगी कि मेहनत करना कभी ना छोड़े सफलता एक न एक दिन ख़ुद आपके क़दम चूमेगी। क्योंकि :-

 

सफलता चाहे छोटी हो या बड़ी 

उसके रास्ते हमेशा कदमों के नीचे होते हैं।

 

बबली (आविष्कार फैलो)

चाय पर फिर से आना।

 

प्रतिदिन विद्यालय में पाठन-अध्यापन की दिनचर्या ने विद्यालय और हमारे बीच जो रिश्ते की डोर को एक धागे में पिरोया हैं उसने अपने स्नेह की छत से हमको कभी ऐसा महसूस नहीं होने दिया कि विद्यालय हमारा दूसरा घर नहीं हैं। अब जैसे विद्यालय अपना ही घर हो चला हैं और यहां के सभी छात्र एवं शिक्षक गण मिल कर उस घर का, विद्यालय परिवार का एक हिस्सा बन चुके हैं।

 

इस घर में समय बीतता गया और हम बच्चों को नई-नई चीज़ें करवाते गए और खुद भी नई-नई चीज़ सीखते गए। इस सीखने-सिखाने की जगह अपने विद्यालय के बारे में अभी तक तो मैं इतना ही जानता था कि यह मेरा स्पैडू गांव में स्थित विद्यालय जो पालमपुर की एक पहाड़ी पर हैं केवल प्राथमिक शिक्षा तक ही उपलब्ध हैं, यहाँ शिक्षा लेने के बाद सभी बच्चों को उच्च शिक्षा के लिए दूसरे गांव में जाना पड़ता हैं। जो कुछ किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं। मुझे सुनकर थोड़ा अचरज हुआ कि शिक्षा के अमृत को चखने के लिए बच्चों को कितना चलना पड़ता होगा । उनका हर कदम संघर्ष की एक नई इमारत को बुनता होगा।

मगर जानने को मिला कि अभी भी उनको अपनी प्राथमिक शिक्षा के लिए काफी चलना पड़ता हैं।  थोड़ी सी जानने की जिज्ञासा उतपन्न हुई कि बच्चे कहाँ-कहाँ और किस गाँव से आते होंगे। हमारी इस जिज्ञासा ने जब पर खोले तो मन में और भी बातें आनी शुरू हो गयी कि यहाँ के लोग कैसे और किस प्रकार से रहते होंगे। इन असीम संभावनाओं का जवाब हमको तलाशने का एक ज़रिया मिला, सामुदायिक दौरा। सोचने में ज़्यादा समय नहीं लगा कि अगर हमको समाज को समझना हो तो हमको कहाँ और किसके घर जाना चाहिए, हम हमारे छात्रों के घर जा सकते हैं। यह कितना अच्छा भी है किसी अनजान समाज-समुदाय में जल्द ही जगह बनानी हो या उसमें परिवर्तन की लहर लानी हो या फिर प्रगति की रफ्तार बढ़ानी हो, उसको भली-भांति परिचय जानने और करने के लिए कितना सहज और सरल तरीक़ा हैं।

चुनाव किया की सारिका के घर जाएंगे जो पांचवीं कक्षा की छात्रा हैं क्योंकि उसकी दो बहनें और भी हैं जो किसी और कक्षा में उसी स्कूल में पढ़ती हैं। तो एक दोपहर विद्यालय की घंटी बजती हैं सारिका से पूछते हैं आज क्या हम तुम्हारे घर चल सकते हैं क्या? वह बहुत ही उरालता से कहती हैं, “हाँ हाँ-चलो चलो”। हैरान थे हम, बच्चे ने चलने में इतनी उत्सुकता दिखाई। सोचकर बैठे थे कि वह मायूस होगी या घबरा कर बोलेगी, “मैंने ऐसा विद्यालय में क्या कर दिया कि शिक्षक मेरे घर आना चाहते हैं”। पर ऐसा नहीं हुआ और हमने फिर पूछा कि तुम कहाँ से आती हो, जवाब आया रछियाडा से । हमने कहा चलो। फिर उसके घर की ओर चल दिये। लगभग 15 से 20 मिनट पहाड़ की उबड़-खाबड़ पथरीली जमीन पर चलने के बाद उसका घर आया। वह घर तीन भाइयों का था जिनमें से दो भाई चरवाहे थे वह अपना पारम्परिक काम करते थे, भेड़-बकरियों को चलाते हुए एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाना। जिनको मैं सातवीं-आठवीं कक्षा में भूगोल की किताबों में पढ़ा करता था, विचार उस समय भी वही था जो आज आया, कैसे यह लोग घर से दूर साल भर तक इधर से उधर एक शहर की पहाड़ी से दूसरे शहर की पहाड़ी का रास्ता तय करते हैं। वह केवल एक माह के लिए ही घर आते हैं बाक़ी महीने अपने भेड़-बकरियों को पहाड़ियों पर घास चराते हुए शहर गांव दर अपनी भेड़ों को बेचते रहते हैं और उनके ऊन को भी बेचते हैं। जब वह घर आते हैं तब उनके ऊंन को निकाल कर उनसे तरह-तरह की कपड़े और कंबल बनाए जाते हैं। उन्होंने हमको उनसे बने हुए काफी सारे कपड़े दिखाए।

उस आधे घंटे की गप-शप और चाय की चुस्की में छुपी सारी कहानियां बाहर आती गई। कहानी-कहानी में हमको उनके गांव, रहन-सहन जानने को मिला। और उनके घर से जाते जाते उन्होंने अपने चेहरे पर एक मुस्कान लिए कहा चाय पर फिर से ज़रूर आना।

 

इस पूरे एहसास को मैं यदि बयान करना चाहूं तो कुछ इस तरह से कर सकता हूँ

 

घर से निकलकर देखो,

एक जहान ऐसा भी हैं

अपने पड़ोस में जाकर तो देखो,

चाय की चुस्की का मज़ा कुछ और भी हैं।

अनेकता में एकता

‘ एकता ‘ जिस शब्द का अर्थ है ‘ एक साथ मिलजुल कर ‘ जब अनेकता मिलकर एकता बनती है तो उस एकता को कोई नही हरा सकता । मैंने बचपन में एक कहानी पड़ी थी कि एक जंगल में चार गाय रहती थी जो कि बहुत अच्छी दोस्त थी पर उसी जंगल में एक शेर भी रहता था । वह शेर हर दिन उन चारों गाय को देखता रहता और वह उनको अपना शिकार बनाना चाहता पर वह डरता था  क्योंकि शेर एक ही था और गाय चार जो कि आपस में मिलजुल कर रहती थी और उन चारों में गहरा रिश्ता था । शेर को पता था कि अगर उसने उन पर हमला किया तो वह मिलकर उसे मार देंगी । शेर हर दिन सोचता रहता कि इनको शिकार कैसे बनाया जाए । फिर एकदिन उन चारों गाय की आपस में लड़ाई हो गई और सब एक दूसरे से अलग हो गई यह देखकर शेर बहुत ख़ुश हुआ और उसने चुप-के से एक गाय को अपना शिकार बना लिया और उसे खा गया । धीरे धीरे उसने सब गाय को अपना शिकार बनाया और उन्हें खा गया । पहले जब उन चारों गाय ने एकता बनाए रखी थी तो तब तक उनको कोई हाथ नहीं लगा सकता था लेकिन जैसे ही उनकी एकता टूटी उन सब ने अपनी जान को गँवा दिया ।

तो ये कहानी जब हमें अपने बचपन में  सुनाई जाती थी तो हमसे पूछा जाता था कि इस कहानी से आपको क्या सीखने को मिलता है तो हम कह देते थे कि ‘ एकता में ही बल है ‘ पर वास्तव में मुझे इसका सही मतलब नहीं पता था ।

हम बहुत से ऐसे काम करते हैं जो सिर्फ अकेले बैठ कर नहीं किए जा सकते उसमें किसी का साथ होना ज़रूरी होता है और एकजुट होकर जब हम किसी भी काम को करते हैं तो उसका महत्व ही अलग होता है जितना अकेले का नहीं होता ।

और बोलते भी हैं ना कि :- 

 

हाथ की पाँच ऊँगली में उतनी ताक़त नहीं होती है।

लेकिन जब वही पाँच उंगलियाँ एक मुट्ठी बन जाती है तब उसकी ताक़त को कोई नहीं हरा सकता ।।

 

जब से मैं आविष्कार में आई हूँ तब से सबसे ज़्यादा मैंने यही देखा है कि सब यहाँ मिलजुल कर काम करते हैं कभी भी मैंने किसी से ये नहीं सुना कि कोई किसी की मदद नहीं करेगा ।

तो असल में एकता है क्या,  इस बात का सही मतलब मुझे आविष्कार में आ-के पता चला वास्तव में  एकता है क्या इस शब्द का सही अर्थ मुझे यहाँ आकर पता चला ।

आविष्कार में सबसे ज़्यादा एकता पर बल दिया जाता है क्योंकि  मैं यहाँ फैलोशिप के लिए आई हूँ। फैलोशिप का मतलब ही यही है कि एकजुट होकर काम करना मिलजुल कर रहना और जब से मैं आविष्कार में आई हूँ तब से मैंने यही सुना है और देखा कि यहाँ लोग एक-दूसरे की मदद लेने में हिचकिचाते नहीं हैं और यहाँ कि सबसे अच्छी बात है कि कभी भी यहाँ पर आप किसी से भी मदद मांगे तो वह कभी भी मना नहीं करेंगे, अगर वह दूसरे किसी काम में भी लगे हो तो भी वह मना नहीं करेंगे बाद में वह ज़रूर मदद करते हैं । अगर कुछ पता न लगे तो हम कितनी भी बार पूछ सकते हैं क्योंकि आगे से मदद के लिए कभी मना नहीं होगा । आविष्कार में उन लोगों को माना जाता है जो कि ज़्यादा से ज़्यादा सवाल करें और यहाँ पर माना जाता है कि जिन लोगों के पास किसी भी बात को लेकर कोई सवाल नहीं होता उसमें दो ही बातें हो सकती है  या तो उन को सब कुछ आता है या कुछ भी नहीं । बस कुछ ना कुछ सीखते रहो और सवाल पूछते रहो चाहे वह कैसी भी बात हो, उसे छोटा या बड़ा नहीं समझना है क्योंकि कुछ भी छोटा या बड़ा नहीं होता बस एकता को अपनाना है और एकजुट होकर काम करना और यहाँ की इसी एकता के कारण आविष्कार के लोगों को आविष्कारकस कहा जाता है । यहाँ की सबसे अच्छी बात ये भी है कि कभी यहाँ किसी पर कुछ भी काम थोंपा नहीं जाता बस हम में उस काम को करने की चाहत होनी चाहिए तो फिर सब मन से आपकी मदद करेंगे ।

कोई भी काम तब तक सही नहीं होगा जब तक हम में उसको करने की चाहत नहीं होगी । बस उस काम में आपकी आवश्यकता दिखनी चाहिए और आप सब ने ये बात तो सुनी ही होगी कि 

आवश्यकता आविष्कार की जननी है ।

कभी कभी हम इतने अकेले पड़ जाते हैं कि किसी से मदद माँगना या किसी से भी बात करना अच्छा नहीं लगता।

इन्सान पर जब मुसीबतों का पहाड़ टूटता है तो ज़िंदगी मानो जैसे नर्क बन जाती है लेकिन उन मुसीबतों को दूर करने का ज़ज़्बा हो और जब मुसीबतों को एकजुट होकर दूर किया जाए तो ज़िंदगी आसान बन जाती है । क्योंकि :- 

 

मुसीबतें जब किस्तों में आती हैं तो जिंदगी ख़र्च हो जाती है। पर किस्तें भरने वाले हज़ार हो तो वही मुसीबत पल भर में ख़त्म हो जाती है ।।

 

कभी कभी मुझे दूसरों से मदद माँगने में झिझक सी लगती है कि अगर मैंने मदद मांग ली तो पता नहीं वह क्या सोचेंगे लेकिन अब ये झिझक आविष्कार में आने के बाद ख़त्म हो रही है क्योंकि यहाँ हर वक़्त हमें यही बोला जाता कि जितनी भी किसी से मदद ले सकते हो लो, और जितना सीख सकते हैं उतना सीखो और कभी भी किसी को अपने से बड़ा या छोटा मत समझो क्योंकि हम सब बराबर हैं और सब एक ही हैं, जैसा व्यवहार आप दूसरों से करेंगें वैसा ही व्यवहार वह आपसे करेंगें और अंत में मैं बस यही कहना चाहूँगी कि :- 

 

एक रहो एक बनो क्योंकि अनेकता में तो आफ़त है 

जब वही अनेकता एकता बनती है तो एकता में ही सबसे बड़ी  ताक़त है।

आविष्कार से मिली क़ाफी सीख ।

 

मेरे शुरुआती दिनों में क्लास कुछ इस तरह जाती थी। कक्षा का वातावरण कुछ इस तरह था। मै अपनी तरफ से पूरी तैयारी करके कक्षा में प्रवेश करता।  पर बच्चे शुरुआती कुछ मिनट तो सुनते क्योंकि एक नए भैय्या आये हैं, और उसके बाद के मिनट आप ख़ुद ही पड़ें।

 

छठी कक्षा के बच्चे है। बच्चे ज़मीन पर दरी बिछा कर बैठे हैं।

मैं ठोस द्रव गैस के अणुओं के बारे में बताना शुरू करता। 

” हर एक वस्तु उसी जैसी बहुत छोटी वस्तुओं से मिलकर बनी होती है, और वह छोटी वस्तुएँ कभी पास होती हैं, कभी दूर होती हैं। इन  छोटी वस्तुओं को हम अणु कहते हैं।” तभी अचानक..

 

” मेरी कॉपी लाओओ$$$$, भैया ये मुझे बैठने नहीं दे रहा, धक्का दे रहा है।” ,”$$मैं धक्का नहीं दे रहा।”

 “आप लोग ध्यान दो, लड़ाई झगड़ा मत करो।”

वापस अपनी बात शुरू करता, “जब छोटे अणु बहुत पास पास होते हैं तो उन्हें ठोस कहते हैं, और जब बहुत दूर दूर होते हैं……।

“धिक-चिक, धिक-चिक, धिक्-चिक” बैग क़ो बजाने की आवाजें आतीं,  मौक़ा देखते दो तीन बच्चे क्लास में उठकर इधर उधर घूमने लगते, बच्चे मेरे सामने एक दूसरे को मार रहे, मौक़ा देखते ही कुछ बच्चे धीरे से क्लास से बाहर चले गए।

“तुम कहां घूम रहे हो चलो अपनी जगह बैठो, यह आख़िरी हिदायत है।” और वह आख़िरी हिदायत हर बार बच्चों के लिए जैसे पहली होती। हिदायत का असर कुछ देर ही रहता और बच्चे फिर अपने रंग में आ जाते।

 

मेरी कक्षाओं का वातावरण कुछ ऐसा होता। इस माहौल को बदलने के लिए 4 बातें हो सकती थीं। या तो बच्चे बदल दिए जाए, या उन्हें डरा दिया जाए या मै स्कूल बदलने की गुज़ारिश करूँ या फिर मैं खुद मे सुधार कर लूँ।

मुझ में बहुत सुधार की आवश्यकता थी, और गुंजाइश भी।  न केवल शैक्षणिक बल्कि अन्य पहलुओं में भी। आखिरी विकल्प विकासोन्मुख था, सही लगा।

 

सफर सुधार का आविष्कार में कुछ इस तरह शुरू हुआ।

 

आविष्कार में आने के कुछ दिनों बाद ही 2 कैंप हुए।  पाई साइकिल (6th to 8th),पाई सफारी (9th and 10th)। 5- 5 दिनों के यह दो कैंप थे जिसमे देश के अलग-अलग हिस्सों से बच्चे आए। कोई मुंबई, नागपुर, केरल, तमिलनाडु तो कुछ दिल्ली, सिक्किम जैसी अन्य जगहों से आए। देश की विविधता की झलक इन कैंपों में देखी जा सकती है।

इन कैंपों में मैथ, साइंस के कॉन्सेप्ट्स के साथ-साथ डिज़ाइन चैलेंज, साइंटिस्ट और मैथमेटिशियंस, ट्रेज़र हंट, ऐस्टीमेशन, काउंटिंग, पेपर कट एंड इवैल्यूएशन, पेंटेड क्यूब फेसेस जैसी और भी कई एक्टिविटीज़ हुई। 

 

मैथ, साइंस के सेशन के दौरान मैंने जाना किस तरीक़े से बच्चों को पढ़ाया जाए ताक़ि उत्सुकता, समझ और सोचने की क्षमता पैदा हो। सरित सर ने किस तरीक़े से दो आसान शब्दों से स्टेट्स ऑफ मैटर, हीट जैसे टॉपिक्स बच्चों को समझाया। 

 

प्रश्न जो कभी मस्तिष्क में नहीं आये। जैसे दो संख्याओं को जोड़ा जाता है तो हासिल क्यों लिया जाता है और यह क्या होता है?  भिन्न, पूर्णांक, गुना, जोड़, घटा ऐसी न जाने कितनी चीजें अपने सामने होती देखी, जिन्हें सिर्फ कॉपी में सवाल की तरह किया था। 

 

इन कैंप के दौरान ही प्रतिष्ठित संस्थानों से वॉलिंटियर, शख्शियतें भी आईं।

 

कमला भसीन जो कि एक वूमेन राइट एक्टिविस्ट हैं ने हम सब को क़ाफी समय दिया। कई महत्वपूर्ण बातें बताई जैसेकि हम बस औरत और मर्द को बराबर देखना चाहते हैं।  न पितृसत्ता न मात्र सत्ता। अंत में पूरा कैंप उनके नारों की आवाज़ में गूँज उठा, “हम चाहते ना कम ना ज़्यादा, बस आधा-आधा।”…..

 

इसी दौरान ही विक्रम ने हमें कई महत्वपूर्ण चीजें दिखाई। मधुमक्खी, बरैया जैसे जीवों के छत्ते। और वह छत्ते ऐसे ही क्यों बने होते हैं? वह किस तरीके से काम करतीं ये जानकर आश्चर्य हुआ। कुछ जानवरों की आंखें साइड में होती है तो कुछ कि सामने होती है,  ऐसा क्यों होता है? किस तरह से इन्सेक्ट, मधुमक्खी के नहीं होने पर धरती पर जीवन नष्ट हो जाएगा।

सीखा कि बच्चों को कैसे पढ़ाया जाए, किस तरीक़े से प्रश्नों के माध्यम से बच्चों को सिखाया जाये, सिर्फ बताया न जाये, उनके दिमाग में डाटा नही भरना है। आप अपना होम वर्क इतने अच्छे से करके जाओ कि कक्षा में बच्चे को सीखने में मज़ा आये। जो पाठ  पढ़ाने जा रहे हो, पहले उस पर बच्चे का नज़रिया जानना जरूरी है, फिर उनके नज़रिये से होते हुए उस पाठ की ओर बड़े। हो सके तो एक प्रश्न ही कराएं पर उस एक प्रश्न से बच्चे बहुत कुछ सीख जाये। 

 

यहाँ आकर मुझे पता चला कि किस तरह करोड़ो बच्चों को एक ही रास्ते से होकर जाने को मजबूर किया जाता है। कैसे लोग अपने बच्चे को शिक्षा को बस पूरा कराना कराना चाहते हैं। 

 

उन्हें भेजा जाता है विषयों को रटने, नंबर लाने। उन्हें  नहीं भेजा जाता उनके मस्तिष्क के विकास के लिए, जो समस्या का हल निकालने में सक्षम हों, नए सिरे से सोचने में सक्षम हो। 

ऐसी व्यवस्था बन चुकी है जिसमें बच्चों में भरी जाती हैं तरह-तरह की जानकारियाँ, सिर्फ जानकारियाँ। जो बच्चा सबसे ज्यादा जानकारियाँ बोलता है, उसे ही दिया जाता है ऊंचा पद, ओहदा, पैसा। 

 

सीख रहा हूँ बच्चों, लोगों के साथ घुलना-मिलना, झगड़ना।

लोग आविष्कार को देखने, समझने आते ही रहते हैं। उन लोगों से भी बहुत कुछ सीखने को मिला।

क्यों तुम्हे बच्चे के साथ बच्चा हो जाना चाहिए। क्लास में बच्चे के साथ तुम भी इन्वॉल्व रहो, उनके साथ खेलते समय भी। आप दोनों  के बीच अच्छी बॉन्डिंग होनी चाहिए। आप जितना उनके साथ सहज महसूस करेंगे, उतना ही वो भी सहज महसूस करेंगे। बच्चा हो या बूढ़ा हो, खुश होने पर ही अपना सर्वोत्तम दे सकता है, सीख सकता है।

 टीचर की स्किल को सुधारने के लिए ऐसे कोर्सेस से भी सीखा। जैसे चेक फॉर अंडरस्टैंडिंग, बिहैवियर मैनेजमेंट साइकिल, रिफ्लेक्शन  ये तरीक़े न केवल क्लास में अच्छे परिणाम देते बल्कि हमारी रोज़मर्रा की जिंदगी में भी महत्व रखते। बच्चों पर बिहैवियर मैनेजमेंट किस तरह काम करता, और कितना मायने रखता है ये बात कक्षा में जाकर ही पता चली।

 

पता चला कि हमारा एजुकेशन सिस्टम कैसे काम करता है, अब तक कौन कौन सी पॉलिसी, कमेटी बनाई गई,  इन सब के बारे मे विस्तार से जानने का मौका मिला।

अभी सीख रहा हूं गांधी जी के शिक्षण पर किए गए प्रयोगों से, लोगों के अनुभवों से।

अभी सीख रहा हूँ…..